Home कथा कविता कविता छंद गीत Tora Man Darpan / तोरा मन दर्पन कहलाए

Tora Man Darpan / तोरा मन दर्पन कहलाए

49
0
SHARE

Movie: Kajal (1965)
Singer: Asha Bhosle
Music: Ravi
Lyrics: Saahir Ludhiyanvi

प्रानी अपने प्रभू से पूछे किस बिधि पाऊँ तोहे
प्रभू कहे तू मन को पा ले पा जाएगा मोहे

तोरा मन दर्पण कहलाए
तोरा मन दर्पण कहलाए
भले, बुरे, सारे कर्मों को
देखे और दिखाए
तोरा मन दर्पण कहलाए
तोरा मन दर्पण कहलाए

मन ही देवता,
मन ही ईश्वर
मन से बड़ा ना कोई – 2

मन उजियारा जब जब फैले
जग उजियारा होए

इस उजले दर्पन पर प्राणी – 2
धूल ना ज़मने पाए

तोरा मन दर्पण कहलाए
तोरा मन दर्पण कहलाए
भले, बुरे, सारे कर्मों को
देखे और दिखाए
तोरा मन दर्पण कहलाए
तोरा मन दर्पण कहलाए

सुख की कलियाँ,
दुःख के काँटे
मन सब का आधार – 2

मन से कोई बात छूपे ना
मन के नैन हजार

जग से चाहे भाग ले कोई, – 2
मन से भाग ना पाए

तोरा मन दर्पण कहलाए
तोरा मन दर्पण कहलाए
भले, बुरे, सारे कर्मों को
देखे और दिखाए
तोरा मन दर्पण कहलाए
तोरा मन दर्पण कहलाए

तन की दौलत
ढ़लती छाया
मन का धन अनमोल – 2

तन के कारन
मन के धन को
मत माटी में रोल

मन की कदर भूलानेवाला – 2
हीरा जनम गँवाए

तोरा मन दर्पण कहलाए
तोरा मन दर्पण कहलाए
भले, बुरे, सारे कर्मों को
देखे और दिखाए
तोरा मन दर्पण कहलाए
तोरा मन दर्पण कहलाए