Home दीर्घा चलचित्र Do Bigha Zamin – दो बीघा ज़मीन (1953)

Do Bigha Zamin – दो बीघा ज़मीन (1953)

197
0
SHARE

निर्देशक : बिमल रॉय
निर्माता : बिमल रॉय
लेखक : सलिल चौधरी (कहानी), पौल महेन्द्र (डायलॉग), ऋषिकेश मुखर्जी (पटकथा)
अभिनेता : बलराज साहनी, निरूपा रॉय, मीना कुमारी, जगदीप, मुराद
संगीतकार : सलिल चौधरी

शम्भू (बलराज साहनी) एक ग़रीब किसान है जिसके पास पूरे परिवार का पेट पालने के लिए सिर्फ़ दो बीघा ज़मीन ही है। उसके परिवार में उसकी पत्नी पार्वती पारो (निरूपा रॉय), लड़का कन्हैया, बाप गंगू और एक आने वाली सन्तान हैं। कई सालों से उसके गाँव में लगातार सूखा पड़ रहा है और शम्भू जैसे ग़रीब किसान बदहाली का शिकार हैं। उसके गाँव में एक ज़मींदार है ठाकुर हरनाम सिंह (मुराद), जो शहर के व्यवसायियों के साथ मिलकर अच्छा मुनाफ़ा कमाने के लिए अपनी विशाल ज़मीन पर एक मिल खोलने की योजना बनाता है। बस एक ही अड़चन है कि उसकी ज़मीन के बीचों बीच शम्भू की ज़मीन है। हरनाम सिंह काफ़ी आश्वस्त होता है कि शम्भू अपनी ज़मीन उसे बेच ही देगा। जब शम्भू हरनाम सिंह की बात नहीं मानता है तो हरनाम सिंह उसे अपना कर्ज़ा चुकाने को कहता है। शम्भू अपने घर का सारा सामान बेचकर भी रक़म अदा नहीं कर पाता क्योंकि हरनाम सिंह के मुंशी ने सारे क़ागज़ात जाली कर दिये थे और रक़म बढ़कर भारतीय रुपया६५ से भारतीय रुपया२३५ हो जाती है। मामला कोर्ट में जाता है और कोर्ट अपना फ़ैसला यह सुनाता है कि ३ माह के अन्दर शम्भू को यह रक़म चुकानी होगी वर्ना उसके खेत बेच कर यह रक़म हासिल कर ली जायेगी।
मरता क्या न करता। शम्भू को उसके जानने वाले यह सलाह देते हैं कि वह कोलकाता में जाकर नौकरी कर ले और अपना कर्ज़ा चुका दे। शम्भू अपने बेटे के साथ कोलकाता चला जाता है और रिक्शा चालक का व्यवसाय अपना लेता है। लेकिन एक के बाद एक हादसे (जैसे उसका ख़ुद चोटिल हो जाना, उसकी पत्नी का कोलकाता में चोटिल हो जाना और उसके बच्चे द्वारा चोरी) उसकी कमाई पूंजी को ख़त्म कर देते हैं।
जब अपनी सारी पूंजी गंवा कर वह गाँव वापिस आता है तो पाता है कि उसकी ज़मीन बिक चुकी है और उस जगह पर मिल बनाने का काम चल रहा है। उसका बाप बदहवास (पागल) सा फिर रहा है। अंत में वह अपनी ज़मीन की एक मुट्ठी मिट्टी लेने की कोशिश करता है लेकिन वहाँ बैठे गार्ड उससे वह भी छीन लेते हैं।

इस फ़िल्म के गीतों के बोल लिखे थे शैलेन्द्र ने और उनको स्वरबद्ध किया था सलिल चौधरी ने।

दो बीघा ज़मीन के गीत
गीत गायक
आ जा री आ निंदिया तू आ लता मंगेशकर
अजब तोरी दुनिया हो मेरे राजा मोहम्मद रफ़ी
धरती कहे पुकार के मन्ना डे, लता मंगेशकर और साथी
हरियाला सावन ढोल बजाता आया मन्ना डे, लता मंगेशकर और साथी